sachin tendulkar

क्रिकेट भगवन कहे जाने Sachin Tendulkar जब छोटे थे तो उनके कोच रमाकांत अचरेकर उन्हें एक खिलाड़ी से गुर सीखने की बात कहा करते थे. कोच उन्हें घंटो उस खिलाड़ी की बेटिंग को ध्यान से दिखाते और फिर उसकी ही तरह प्रक्टिस करने को कहते. Sachin Tendulkar भी नेट पर उस खिलाडी की देख रेख में रहते और उनसे काफी कुछ सीखने की कोशिश करते. वे भी Sachin Tendulkar को क्रिकेट के टिप्स दिया करते और उनका खेल सुधरने की कोशिश करते.

 

इस खिलाड़ी का नाम था ” अनिल गुरव “. अनिल एक प्रतिभावान खिलाड़ी थे जिनकी प्रतिभा गुमनामी के रास्ते में खो गयी.  कहा जाता है की ये खिलाड़ी Sachin Tendulkar से जादा प्रतिभावान था जो की अब पूरी तरह शराब की लत में डूब चूका है. ये प्रतिभा कभी भारत के लिए नहीं खेल सकी.

 

ये कहानी एक फिल्म की जैसी है अनिल का बड़ा भाई गलत चक्करों में पढ़ गया और शार्प शूटर बन गया , जिसका असर अनिल की जिंदिगी पर पड़ने लगा और इसका खामियाजा भुगतना पड़ा. पुलिस अनिल और उनकी माँ को पूछताछ के लिए ले जाती.

 

अनिल की माँ और अनिल ने घर भी बदले लेकिन उसका कोई असर नहीं हुआ. मुंबई में क्रिकेट के जानकार अनिल को रिचार्डसन बोला करते थे.वे अंडर 19 के लिए खेला करते थे और अपनी आक्रामक बल्लेबाजी के लिए जाने जाते थे.

 

पुलिस ने कभी अनिल के भाई को नहीं देखा था इसलिए एक दिन पुलिस अनिल को पकड़ कर ले गयी और अनिल गुरव को अजीत गुरव समझ कर इतना मारा की वे कभी अपने क्रिकेट के मैदान में वापिस आने लायक नहीं रहे. इस कारण से जो प्रतिभा देश का नाम रोशन कर सकती थी वह प्रतिभा वही दब गयी और आज शराब में जिन्दगी जी रही है.

 

कभी विव रिचार्डसन कहे जाने वाले अनिल गुरव को आज उनकी कॉलोनी एक शराबी के रूप में जानती है.

 

 

अन्य प्रष्ठ :

तो इसलिए क्रीज़ पर सीटी और गाना गाते थे सहवाग ..

धोनी ने बताया कितने मिले थे उन्हें 10वीं 12वीं में नंबर ..

जब क्रिकेट के भगवान् सचिन तेंदुलकर पर लगा घिनौना आरोप

जब भज्जी ने क्रिकेट छोड ट्रक ड्राईवर बनने का मन बनाया ..

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *